आपदा प्रबंधन बैठक: त्वरित आर्थिक सहायता और बचाव के निर्देश

मनोज तोमर ब्यूरो चीफ दैनिक फ्यूचर लाइन टाईम्स गौतमबुद्ध नगर।
गौतम बुद्ध नगर, 09 जुलाई 2024 – उत्तर प्रदेश विधान परिषद की दैवीय आपदा प्रबंधन जांच समिति के सभापति उमेश द्विवेदी की अध्यक्षता में गौतम बुद्ध नगर, गाजियाबाद और हापुड़ के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई। बैठक का मुख्य उद्देश्य आपदा से प्रभावित लोगों को त्वरित आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना और भविष्य में आपदा प्रबंधन की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित करना था।
बैठक में माननीय सभापति उमेश द्विवेदी ने संबंधित अधिकारियों से बाढ़, महामारी, सर्पदंश और अन्य दैवीय आपदाओं से प्रभावित क्षेत्रों की विस्तृत जानकारी प्राप्त की। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को तुरंत आर्थिक सहायता प्रदान की जाए। उन्होंने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में जनहानि कम से कम हो और राहत राशि शीघ्रता से प्रभावित लोगों तक पहुंचे।
सभापति ने नदियों के घाटों पर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि घाटों पर डूबने की घटनाओं को रोकने के लिए आवश्यक उपाय किए जाएं और पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से लोगों को लगातार सूचित किया जाए। इसके साथ ही गोताखोरों की शिफ्ट वाइज ड्यूटी लगाई जाए और बिना लाइफ जैकेट के कोई भी नाव न चले, यह सुनिश्चित किया जाए।
सर्पदंश से जनहानि की समीक्षा करते हुए सभापति ने अधिकारियों को ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित करने के निर्देश दिए जहां सर्पदंश की घटनाएं अधिक होती हैं। इन क्षेत्रों में जागरूकता अभियान चलाया जाए और सर्पदंश से बचाव के उपाय किए जाएं। उन्होंने कहा कि सर्पदंश के मामलों में पुलिस तुरंत मौके पर पहुंचकर मृतक का पोस्टमार्टम कराए ताकि परिजनों को आर्थिक सहायता मिल सके।
माननीय सभापति ने जनपदों के मुख्य चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिए कि जिला अस्पताल और सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में सर्पदंश से बचाव के इंजेक्शन और अन्य आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने अस्पतालों में सर्पदंश की स्थिति में "क्या करें क्या न करें" विषयक बोर्ड लगाने के भी निर्देश दिए।
बैठक में सभापति ने ऊर्जा विभाग की समीक्षा के दौरान जर्जर तारों को बदलने और बिजली के खंभों को मानक के अनुसार लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों को गलत बिजली बिल से संबंधित शिकायतों पर गंभीरता से कार्यवाही करने को कहा। पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों से बाढ़ से क्षति ग्रस्त सड़कों की स्थिति की जानकारी लेते हुए सभापति ने निर्देश दिए कि बार-बार खराब होने वाली सड़कों को चिन्हित कर उन्हें तकनीकी रूप से मजबूत बनाया जाए।
सभापति ने कृषि विभाग के अधिकारियों से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के बारे में जानकारी ली और निर्देश दिए कि जिन लाभार्थियों का केवाईसी अपडेट नहीं हुआ है, उन्हें जल्द से जल्द अपडेट किया जाए। बैठक में जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने आश्वासन दिया कि माननीय समिति द्वारा दिए गए सभी दिशा-निर्देशों का शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।
इस महत्वपूर्ण बैठक में माननीय सभापति उमेश द्विवेदी ने आपदा प्रबंधन और राहत कार्यों के लिए कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए, जिससे प्रभावित लोगों को त्वरित सहायता मिल सके और भविष्य में आपदा के प्रभाव को कम किया जा सके। आयोजित बैठक में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व अतुल कुमार, प्रभारी अधिकारी आपदा विवेकानंद मिश्र सहित संबंधित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ