प्राधिकरण की कार्यप्रणाली और जनहित के प्रति उनके उदासीन रवैये की हुई तीव्र आलोचना


 मनोज तोमर ब्यूरो चीफ दैनिक फ्यूचर लाइन टाईम्स गौतमबुद्ध नगर।
प्राधिकरण की अनदेखी पर उम्मीद संस्था के महासचिव जागेश कुमार ने जताई चिंता: ग्रेटर नोएडा वेस्ट से कल्दा रोड निर्माण के लिए जन आंदोलन की चेतावनी!
ग्रेटर नोएडा, 10 जून 2024 - ग्रेटर नोएडा वेस्ट से वाया बादलपुर होते हुए कल्दा ईस्टर्न पेरिफेरल रोड तक 60 मीटर रोड का पुनर्निर्माण एक लंबे समय से लंबित पड़ा है। इस मुद्दे पर, उम्मीद संस्था के महासचिव और वरिष्ठ समाजसेवी जागेश कुमार ने प्राधिकरण की अनदेखी पर गहरी चिंता जताई है। उनका कहना है कि इस रोड के पुनर्निर्माण में हो रही देरी से क्षेत्र के लाखों लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने प्राधिकरण की कार्यप्रणाली और जनहित के प्रति उनके उदासीन रवैये की तीव्र आलोचना की है।
जागेश कुमार ने जोर देकर कहा, "प्राधिकरण का निर्माण क्षेत्र के विकास, रोजगार और जनहित के मुद्दों को हल करने के लिए किया गया था। लेकिन वर्तमान स्थिति देखकर लगता है कि प्राधिकरण विनाश की ओर अग्रसर है। जन प्रतिनिधियों और आम जनता की मांगों को लगातार नजरअंदाज किया जा रहा है।
ग्रेटर नोएडा वेस्ट से कल्दा तक 60 मीटर रोड का पुनर्निर्माण, जो कि क्षेत्र की महत्वपूर्ण सड़कों में से एक है, 16 वर्षों से अधूरा पड़ा है। जागेश कुमार ने कहा कि इस सड़क की दयनीय स्थिति के कारण रोजाना लाखों लोग ट्रैफिक जाम और अन्य समस्याओं से जूझ रहे हैं। "जब प्राधिकरण जनहित के इस महत्वपूर्ण मुद्दे को हल नहीं कर सकता, तो ऐसे प्राधिकरण की क्या आवश्यकता है?" उन्होंने पूछा।
जागेश कुमार के नेतृत्व में, उम्मीद संस्था के साथ-साथ अन्य सामाजिक संगठन भी इस मुद्दे को उठाने के लिए एकजुट हो रहे हैं। जन आंदोलन संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमवीर सिंह आर्य एडवोकेट ने भी इस आंदोलन में पूर्ण समर्थन देने का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा, "हम हर तरीके से संघर्ष करने के लिए तैयार हैं। जनहित के मुद्दों पर प्राधिकरण की उदासीनता को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
जागेश कुमार ने प्राधिकरण को चेतावनी दी कि यदि जल्द ही इस सड़क के पुनर्निर्माण का काम शुरू नहीं किया गया, तो व्यापक जन आंदोलन की शुरुआत की जाएगी। उन्होंने कहा, हम क्षेत्र की जनता के हितों के लिए हर संभव कदम उठाने को तैयार हैं। अगर प्राधिकरण हमारी मांगों को अनसुना करता है, तो हम सड़क पर उतरेंगे और अपने अधिकारों के लिए लड़ेंगे।
प्राधिकरण की भूमिका पर सवाल उठाते हुए जागेश कुमार ने कहा कि यदि प्राधिकरण जनहित के मुद्दों को हल करने में असमर्थ है, तो उसकी अस्तित्व पर पुनर्विचार करना आवश्यक हो जाता है। प्राधिकरण को जनता की सेवा और क्षेत्र के विकास के लिए बनाया गया था, लेकिन जब यह अपने मूल उद्देश्यों से भटक जाए, तो जनता का आक्रोश स्वाभाविक है, उन्होंने कहा।
उम्मीद संस्था और अन्य सहयोगी संगठनों ने इस मुद्दे को हल करने के लिए अपने प्रयासों को तेज करने का संकल्प लिया है। वे जनता को इस आंदोलन में शामिल करने और प्राधिकरण पर दबाव बनाने के लिए विभिन्न रणनीतियों पर काम कर रहे हैं। जागेश कुमार ने कहा, हमारा संघर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक कि प्राधिकरण इस सड़क के पुनर्निर्माण का कार्य शुरू नहीं कर देता और क्षेत्र की जनता को राहत नहीं मिल जाती।
ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवासी और विभिन्न सामाजिक संगठन जागेश कुमार के नेतृत्व में इस आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं। वे इस मुद्दे पर प्राधिकरण के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करने के लिए एकजुट हो रहे हैं। जन आंदोलन संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमवीर सिंह आर्य एडवोकेट ने कहा, हम सभी एक साथ हैं और इस संघर्ष को अंत तक ले जाएंगे। प्राधिकरण को जनता की मांगों को स्वीकार करना ही होगा।
यह देखना बाकी है कि प्राधिकरण इस गंभीर स्थिति का कैसे समाधान करता है। लेकिन एक बात स्पष्ट है कि क्षेत्र की जनता अपने अधिकारों और विकास के लिए अब खामोश नहीं बैठेगी।

Post a Comment

0 Comments