राजेश पायलट की 24वीं पुण्यतिथि पर गुर्जर भवन कोटला दिल्ली में श्रद्धांजलि सभा: भावपूर्ण सम्मान और नई जिम्मेदारियाँ

मनोज तोमर ब्यूरो चीफ दैनिक फ्यूचर लाइन टाईम्स गौतमबुद्ध नगर।
नोएडा/नई दिल्ली, 11 जून 2024– किसानों के प्रिय नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. राजेश पायलट की 24वीं पुण्यतिथि के अवसर पर, गुर्जर भवन कोटला दिल्ली में एक भावपूर्ण श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इस मौके पर जिला अध्यक्ष अखिल भारतीय गुर्जर महासभा गौतम बुद्ध नगर, अशोक भाटी सहित कई प्रमुख नेता और समाजसेवी उपस्थित थे। उन्होंने पायलट जी की अद्वितीय सेवाओं और योगदान को याद करते हुए उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की और उनके आदर्शों पर चलने का संकल्प लिया।=राजेश पायलट को याद करते हुए अशोक भाटी ने कहा, “आज भी हमारे समाज में उनकी कमी को कोई नहीं भर पाया है। पायलट जी का कहना था, ‘जब तक गरीब किसान और मजदूरों के बच्चे पढ़-लिखकर उन कुर्सियों पर नहीं बैठेंगे, जहां देश की नीतियां बनाई और क्रियान्वित होती हैं, तब तक देश की प्रगति संभव नहीं है।’” उनके इन शब्दों ने उपस्थित सभी लोगों के दिलों को छू लिया और उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने की प्रेरणा दी।
इस कार्यक्रम के दौरान, अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. यसवीर सिंह ने एडवोकेट ललिता चौधरी को महिला राष्ट्रीय सचिव के रूप में मनोनीत किया। ललिता चौधरी, जो श्री दिनेश कुमार की धर्मपत्नी हैं और लोनी, गाजियाबाद की निवासी हैं, को इस महत्वपूर्ण पद पर नियुक्त कर महासभा ने महिला सशक्तिकरण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को और मजबूत किया है। यह नियुक्ति न केवल महासभा के भीतर महिलाओं की भूमिका को सुदृढ़ करेगी, बल्कि समाज में उनकी भागीदारी को भी बढ़ावा देगी।
पूर्व मंत्री श्री हरिश्चंद्र भाटी ने कार्यक्रम के दौरान घोषणा की कि कांस्टीट्यूशन क्लब दिल्ली में 1 जुलाई 2024 को एक भव्य सम्मान समारोह का आयोजन किया जाएगा। यह आयोजन पहले 30 जून को होना था, लेकिन कुछ अपरिहार्य कारणों से इसकी तिथि को बदल दिया गया है। इस समारोह में समाज के उत्कृष्ट योगदानकर्ताओं को सम्मानित किया जाएगा, जिससे उन्हें प्रेरणा मिलेगी और उनके योगदान की सराहना होगी।
यह आयोजन न केवल राजेश पायलट के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करने का एक माध्यम था, बल्कि यह समाज के विकास और समृद्धि के लिए उनके द्वारा किए गए कार्यों की भी याद दिलाता है। उनके विचारों और सिद्धांतों ने समाज के हर वर्ग को प्रेरित किया है, और इस सभा ने उन आदर्शों को पुनर्जीवित करने और उन्हें आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान किया।
राजेश पायलट के आदर्श और उनके द्वारा दिए गए संदेश आज भी हमारे समाज के लिए प्रासंगिक हैं। उन्होंने हमेशा किसानों, मजदूरों और गरीबों के हक की लड़ाई लड़ी और उनकी आवाज बने। उनकी पुण्यतिथि पर आयोजित इस कार्यक्रम ने यह सुनिश्चित किया कि उनके विचार और सिद्धांत हमेशा जीवित रहें और समाज में सकारात्मक बदलाव लाते रहें।
गुर्जर भवन कोटला दिल्ली में आयोजित इस श्रद्धांजलि सभा ने न केवल स्व. राजेश पायलट के प्रति सम्मान प्रकट किया, बल्कि समाज के प्रति उनकी सेवा और योगदान को भी उजागर किया। यह सभा एक यादगार अवसर बन गई जिसने समाज को उनके आदर्शों पर चलने और उनकी विरासत को जीवित रखने के लिए प्रेरित किया। इस प्रकार की सभाएँ हमें हमारे इतिहास के महान नायकों को याद रखने और उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करती हैं।श्रद्धांजलि सभा में कई प्रमुख नेता और समाजसेवी उपस्थित थे। इनमें डॉ. यसवीर सिंह, हरिश्चंद्र भाटी, जिले सिंह, रामकेश चपराना, अशोक भाटी, विपिन प्रधान, ब्रह्म सिंह नागर, नीरज तोमर, और आरती जैसे नाम शामिल थे।इन सभी ने मिलकर राजेश पायलट को श्रद्धांजलि अर्पित की और उनके आदर्शों को जीवित रखने का संकल्प लिया।

Post a Comment

0 Comments